ER Model in Hindi

ER Model

ER Model एक Entity-Relationship मॉडल है। ER Model को Peter ने 1976 में प्रस्‍तुत किया था। यह एक high-level डेटा मॉडल है। इस मॉडल का उपयोग किसी specific सिस्टम के लिए Data Elements और relationship को परिभाषित करने के लिए किया जाता है। यह डेटाबेस के लिए एक conceptual design तैयार करता है। यह डेटा के लिए एक बहुत ही सरल और आसान design बना कर तैयार करता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि हम एक कालेज का डेटाबेस डिज़ाइन करते हैं। इस डेटाबेस में, छात्र का पता, नाम, ID, आयु आदि विशेषताओं के साथ एक इकाई (entity) होगी। शहर, सड़क का नाम, pin code, आदि जैसी विशेषताओं के साथ पता एक और इकाई हो सकता है और उनके बीच एक संबंध होगा।

Example of Entity
Example of Entity

Components of ER Diagram

ER Diagram Components
ER Diagram Components

1. Entity (इकाई)

एक entity कोई भी person, place और real word object हो सकता है। जैसे Customer id, customer name और Customer city आदि attributes है जिन्हें customer entity में define किया गया है। E-R diagram में entity को Rectangles के रूप में प्रदर्शित किया जाता है।

Entity

Entity sets:- एक Entity set एक ही प्रकार के entities का एक समूह है जोे समान properties(गुण) share करता है।
DBMS में Entity (इकाई) दो प्रकार की होती है।
1.Weak Entity:-
Weak Entity एक ऐसी Entity होती है जो अपने Attributes के द्वारा खास तौर पर Identify नही हो पाती है। तो हम कह सकते है कि इसमें primary key नही होती है।

Week Entity

2. Strong Entity:- वह entity जिसके पास Primary Key होती है Strong Entity (इकाई) कहलाती है।

2. Attributes (गुण)

किसी Entity के गुणों का विवरण करने के लिए attributes का उपयोग किया जाता है। एक attribute, entity की प्रॉपर्टी होती है जो की अन्य entities से different होती है और वो entity के बारें में सुचना provide करती है।
वे attributes जो entity को identify करते है उन्हें key attributes कहते है।
वो attributes जो entity को describe करते है उन्हें non-key attributes कहते है।
एक attribute type, entity type की प्रॉपर्टी होती है। attribute को ellipse के द्वारा represent किया जाता है।
उदाहरण के लिए – student एक entity है और उसका subject name, subject code, ID तथा gender उसके attributes हैं। एक attribute का Represent करने के लिए Eclipse का उपयोग किया जाता है।

Attributes
Attributes

a) Key attributes 

किसी इकाई की मुख्य विशेषताओं काेे Represent करने के लिए key attributes का उपयोग किया जाता है। यह एक primary key काेे Represent करता है। मुख्य विशेषता को underlined text के साथ एक ellipse द्वारा दर्शाया गया है।

Key Attributes
Key Attributes

b) Composite Attribute

एक attribute जो कई अन्य विशेषताओं से बना है, एक composite attribute के रूप में जानी जाती है। composite attribute को एक ellipse द्वारा दर्शाया जाता है, और उन ellipse को ellipses के साथ जोड़ा जाता है।

Composite Attribute
Composite Attribute

c) Multivalued Attributes

एक attribute में एक से अधिक values हो सकती हैं। इन विशेषताओं को multivalued attribute के रूप में जाना जाता है। double oval का उपयोग multivalued attribute का प्रतिनिधित्व करने के लिए किया जाता है।

Multivalued Attributes
Multivalued Attributes

उदाहरण के लिए, एक छात्र के पास एक से अधिक Phone No. हो सकते हैं।

d) Derived Attribute

एक attribute जिसे अन्य विशेषता से प्राप्त किया जा सकता है, एक derived attribute के रूप में जाना जाता है। इसे dashed ellipse द्वारा दर्शाया जा सकता है।

Derived Attribute
Derived Attribute

उदाहरण के लिए, किसी व्यक्ति की उम्र समय के साथ बदलती है और Date of birth जैसी किसी अन्य attribute से प्राप्त की जा सकती है।

3. Relationship

Entities के बीच संबंध काे दर्शाने के लिए एक Relationship का उपयोग किया जाता है। Relationship काेे Represent करने के लिए diamond या rhombus का उपयोग किया जाता है।

Relationship

Types of Relationship

a) One-to-One Relationship

One to One
One to One

चित्र में Entity Set A नामक Entity, Entity Set B नामक Entity से पूरी तरह से जुडी हुई है। ऐसी रिलेशनशिप One to One  रिलेशनशिप कहलाती है।
उदाहरण के लिए एक विद्यालय में किसी शिक्षक को सिर्फ विषय पढाने को दिया जाता है, तो इसे One to One रिलेशनशिप कहेगे। साधारणत: एक व्‍यक्ति एक ही कम्‍पनी के लिए काम करता है। यहाँ Entity Set A शिक्षक तथा Entity Set B को विषय माना गया है।

b) One-to-many relationship

One to Many
One to Many

चित्र में Entity Set A की प्रत्‍येक ऐन्टिटी Entity Set B की एक से अधिक ऐन्टिटीज के साथ सम्‍बधं रख सकती है। ऐसा सम्‍बधं One to Many कहलाता है।
उदाहरण के लिए एक शिक्षक एक विद्यालय में एक से अधिक विषय पढ़ाता है तो ऐसी रिलेशनशिप को One to Many कहलाता है। यहाँ Entity Set A शिक्षक तथा Entity Set B को विषय माना गया है।

c) Many-to-Many relationship

Many to Many
Many to Many

चित्र में Entity Set A की एक से अधिक ऐन्टिटी, Entity Set B की एक या अधिक ऐन्टिटी से जुड़ी है तो ऐसे सम्‍बन्‍ध को Many to Many कहेगे।
उदाहरण के लिए किसी एक व्‍यक्ति के एक से अधिक शेयर, एक से अधिक कम्‍पनीयों में है तो वह Many to Many कहलायेगा। यहाँ Entity Set A को व्‍यक्ति तथा Entity Set B को कम्‍पनी माना गया है।

NOTE:- आपको ये पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें। हमें आपके कमेंट्स का बेसब्री से इन्तजार रहेगा है। अगर आपका कोई सवाल या कोई suggestions है तो हमें बतायें, और हाँ पोस्ट शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.